Almora Uttarakhand

अल्मोड़ा : जन जातीय समुदाय के उत्पाद को प्रोत्साहन की कवायद

Spread the love

अल्मोड़ा। जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने एकीकृत आजीविका सहयोग परियोजना, अल्मोड़ा के अधिकारियों की एक बैठक कैंप कार्यालय में ली। इस बैठक में विगत दिनों सचिव भारत सरकार व प्रबन्धक निदेशक, जन जातीय मंत्रालय, भारत सरकार (ट्राईफैड) के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रे ंसिंग में दिये गये निर्देशों के क्रम में हुई प्रगति की समीक्षा एवं इस संबंध में भावी कार्ययोजना भी तय की गयी।
बैठक में जिलाधिकारी ने जन जातीय मंत्रालय के आनलाइन पोर्टल पर अल्मोड़ा एवं अन्य जनपदों के उत्पाद प्रदर्शन हेतु कैटलॉग तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इस तैयार होने वाले कैटलॉग में उत्पादों से संबंधित सूक्ष्म कहानी, सामुदायिक संगठन का नाम आदि भी शामिल किया जाय। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि कैटलॉग को 15 अगस्त तक जनजातीय मंत्रालय को प्रेषित किया जाना सुनिश्चित किया जाय। जिलाधिकारी ने बताया कि उत्पाद की गुणवत्ता नियंत्रण हेतु जनपद में एक गुणवत्ता नियंत्रण लैब स्थापित की जानी है। जिससे जनपद में उत्पादित उत्पादों की प्राथमिक स्तर पर गुणवत्ता की जांच की जा सके। उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा जनपद इस कार्य हेतु केन्द्र के रूप में कार्य करें एवं अन्य आसपास के जनपद उत्पाद तैयार करने हेतु कच्चा माल एवं अन्य सेवाएं प्रदान कर सकते हैं। साथ ही उत्पाद की जांच हेतु अल्मोड़ा स्थित गुणवत्ता नियंत्रण लैब की सेवाएं ले सकते हैं।
उन्होंने कहा कि चूंकि यह गतिविधि जनजातीय समुदाय के विकास हेतु संचालित की जा रही है। अत: इससे संबधित विभिन्न कार्यों में जन जातीय समुदाय के इच्छुक सदस्यों को प्राथमिकता के आधार पर शामिल किया जाना सुनिश्चित करें। साथ ही अल्मोड़ा जनपद के आसपास के जनपद जैसे पिथौरागढ़, चम्पावत, चमोली, बागेश्वर आदि में निवास करने वाले जन जातीय समुदाय से सम्पर्क कर उनके द्वारा उत्पादित उत्पाद को क्रय किया जाय। बैठक में उपजिलाधिकारी सीमा विश्वकर्मा, जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी, राकेश जोशी, पर्यटन अधिकारी राहुल चौबे, सहायक प्रबन्धक प्रदीप गुसांई, विक्रम तोमर राजेश मठपाल आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *