Almora Uttarakhand

अल्मोड़ा : 2024 तक ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक घर तक पहुंचे पेयजल संयोजन

Spread the love

अल्मोड़ा। जल जीवन मिशन की जिला स्तर पर गठित जिला जल एवं स्वच्छता मिशन की बैठक जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया की अध्यक्षता में कैम्प कार्यालय में सम्पन्न हुई। बैठक में जल जीवन मिशन के अन्तर्गत वर्तमान तक किये गये कार्यों की समीक्षा की गयी। जिलाधिकारी ने कहा कि इस कार्यक्रम के अन्तर्गत वर्ष 2024 तक ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक घर में क्रियाशील घरेलू जल संयोजन देने के साथ ही 55 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन शुद्ध पेयजल आपूर्ति की जानी है। इस बात को ध्यान में रखते हुए कार्यदायी संस्थाओं जल संस्थान, जल निगम और स्वजल को दिये गये लक्ष्यों की पूर्ति समय से करनी होगी।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि विलेज एक्शन प्लान सम्बन्धित एनजीओ के माध्यम से पूर्ण कर लिये जाय जिन एनजीओ द्वारा कार्य प्रारम्भ नहीं किया गया है उनका अनुबन्ध समाप्त कर दिया जाय। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिये कि तीनों कार्यदायी संस्थाओं हेतु लक्ष्यों का निर्धारण सुनिश्चित करें और तद्नुसार ही मासिक प्रगति की समीक्षा की जाय। उन्होंने कहा कि योजनाओं हेतु डीपीआर बनाने के कार्य में तेजी लायी जाय ताकि योजनाओं के लिए वित्त पोषण हो सके। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी 880 योजनाओं को चयनित एनजीओ को आवंटित कर दिया जाय ताकि वे इन योजनाओं हेतु समितियों का गठन करते हुए विलेज एक्शन प्लान बना सकें। उन्होंने निर्देश दिये कि लक्षित गांवों में पेयजल संयोजन हेतु सम्बन्धित एजेंसी समय-समय पर निरीक्षण करें। जिलाधिकारी ने कहा कि भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित इस मिशन की मॉनीटरिंग बेहतर ढंग से की जाय जिससे प्रत्येक गांव को शुद्ध पेयजल मुहैया हो सके।
बैठक में परियोजना प्रबन्धक नरेश कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि जल जीवन मिशन के अन्तर्गत वर्ष 2024 तक जनपद के कुल 2139 राजस्व ग्रामों को क्रियाशील घरेलू जल संयोजन से आच्छादित किया जाना है। इस हेतु कुल 880 योजनायें बनायी जानी है। जिसमें 1,20,268 जल संयोजन देने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष 20,977 गांवों को पेयजल संयोजन देने का लक्ष्य रखा गया है, जिसमें कुल 375 योजनायें बनायी जानी है। उन्होंने बताया कि 75 योजनाओं की डीपीआर वर्तमान तक बना दी गयी है। जिसमें 359 गांवों को जल संयोजन से आच्छादित कर दिया गया है। परियोजना प्रबन्धक ने बताया कि 14 एनजीओ के माध्यम से विभिन्न गांवों में समितियों का गठन करते हुए विलेज एक्शन प्लान बनाया जा रहा है। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी मनुज गोयल, डीएफओ केएस रावत, अधिशासी अभियन्ता जल निगम केडी भट्ट, स्वजल विभाग के धर्मपाल सिंह कार्की, बलवन्त सिंह नयाल, किशन नेगी के अलावा अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *